Subscribe Us

वेब होस्टिंग क्या है ?- What is Web Hosting | Hosting Meaning in Hindi |

Hosting | Hosting Meaning in Hindi :-  यदि आप भी एक प्रोफेशनल वेबसाइट बनाना चाहते हैं तो आपको Web Hosting और Domain Name के बारे में जानकारी होना बहुत जरुरी है. तो दोस्तों आज के इस लेख में मैं आपको Web Hosting के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ .

जैसे - वेब होस्टिंग क्या है ?-  Web Hosting Kya Hai ? What is Hosting ? What is Web Hosting ?What is Web Hosting in Hindi ?  Hosting कितने प्रकार के होते हैं ?- Types of Hosting . Hosting | Hosting Meaning in Hindi  आदि .


तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं - वेब होस्टिंग क्या है ?-  Web Hosting Kya Hai ? Hosting | Hosting Meaning in Hindi | 



    वेब होस्टिंग क्या है ?What is Web Hosting in Hindi 


    आप जानते ही होंगे की दुनिया में जो भी चीजें है उसे रहने के लिए जगह की जरुररत होती है चाहे वो दिखे या न दिखे जैसे - हवा हमें दीखता तो नहीं है लेकिन उसे भी जगह चाहिए.

    ठीक उसी प्रकार हम या आप जो भी Website बनाते है उसे Internet पर आने के लिए जगह चाहिए होता है, हमारा Website Internet में जहाँ सुरक्षति होता है उसे ही Web Hosting कहा जाता है.

    वेब होस्टिंग क्या है ?-  What is Web Hosting?



    जैसे - हमारे Mobile में जो भी डाटा होता है (जैसे - Image , Video , Audio, Document, Files  आदि) उसे हम अपने फोन के Storage या Memory Card में Save करके रखते हैं.

    इसी तरह जब भी हम किसी वेबसाइट को ओपन करते हैं तो हमें सभी प्रकार के कंटेंट मिलते हैं Image , Video , Audio, Document आदि.

    तो दोस्तों ये जो किसी Website के Page को खोलने पर हमें इतने सारे कंटेंट हमें दिखाई देते हैं ये सभी जिस Location पर Store होता है उसे ही  Web Hosting कहा जाता है.

     Web Hosting के लिए हमें एक Power Full Server की आवश्यकता होती है जो हर वक्त Internet से Connect रहनी चाहिए ताकि हमारी Website हर वक्त बिना किसी दिक्कत के User के लिए उपलब्ध हो.

    अब आप जान चुके हैं की  Web Hosting क्या है? तो चलिए अब जानते हैं की  Web Hosting कैसे काम करती है ?

    Web Hosting कैसे काम करती है ?


    जब भी हम किसी ब्राउज़र को Open करते हैं (जैसे - Chrome , Firefox ,Uc Browser आदि) और उसके Search Bar में जो Address या URL Type करते हैं वो Domain Name होता है जो की IP Address से connected होता है.

    IP Address डोमेन को Server से Point कर देता है जहाँ पर हमें Website से कंटेंट हमें दिखाई देते हैं .


    वेब - होस्टिंग कितने प्रकार के होते हैं? - Types Of Web Hosting in Hindi


    हमने अभी तक ये जाना की Web Hosting क्या होता है और ये कैसे काम करता है.

    आगे चलिए जानते हैं की इस्तेमाल के अनुसार कितने प्रकार का होता है.

    1. Shared web Hosting
    2. Virtual Private Server (VPS)
    3. Dedicated Hosting
    4. Cloud Web Hosting

    चलिए इन सब को और थोडा विस्तार से जानने की कोशिश करते हैं -


    1. Shared Web - Hosting 


    जैसा की इसके नाम से ही पता चलता है की ये एक से अधिक के साथ share किया हुआ है अर्थात् इस प्रकार की होस्टिंग में कई सारे वेबसाइट मिलकर एक ही Server का उपयोग कर रहे होते हैं.

    इस प्रक्रार की Hosting आपको बहुत ही सस्ता मिल जायेगा क्योंकि इसमें आप एक साथ कई सारे वेबसाइट मिलकर एक ही Server के space का use करते हैं.

    दरअसल इस प्रकार की होस्टिंग उन सभी शुरूआती Bloggers के लिए अच्छा होता है जिसके ब्लॉग पर Traffic कम आता है. लेकिन जैसे - जैसे उनके ब्लॉग Popular होते जाते हैं और Traffic बढ़ते जाते हैं इसमें प्रॉब्लम भी बढ़ते जाती है.

    जैसे ही Traffic बढ़ जाता है तो Server का लोड भी बढ़ जाता है जिससे वेबसाइट को Loading Speed काफी कम हो जाती है और Page लोड होने में काफी समय लगता है.

    इसके अलावा जितने Sites जो आपके साथ में है वो भी Slow ही काम करेगी. जैसे आप अपनी यात्रा के क्रम में यदि बस से सफर करते हैं तो आपको कम पैसे जरुर लगते हैं लेकिन उसमें आपको दिक्कत भी उतनी ही हो सकती है.

    Shared Web Hosting के फायदे -

    • इस प्रकार की होस्टिंग काफी सस्ती होती है.
    • नए ब्लॉगर के लिए सबसे अच्छी होती है.

    Shared Web Hosting के नुकसान -

    • ये High Traffic को कण्ट्रोल नहीं कर सकती है.
    • जब ब्लॉग पोपुलर हो जाती है तो ये होस्टिंग आपके ब्लॉग की स्पीड को कम कर देती है.



    2. Virtual Private Server



    Virtual Private Server को VPS भी कहा जाता है. यदि देखा जाय तो Virtual Private Server भी shared होस्टिंग के जैसा ही होता है लेकिन इसमें क server को बहुत सारे virtual servers में बांट दिया जाता है. और जिस भाग में आपका Blog या Website है उसमें कोई दूसरा ब्लॉग या वेबसाइट नहीं आ सकता है.

    इसका मतलब ये हुआ की ये आपका Private Server है जिसे दुसरे के साथ शेयर नहीं किया जा सकता है. 


    Virtual Private Server के फायदे -

    • ये होस्टिंग काफी Secure होती है.
    • Shared होस्टिंग से ज्यादे Traffic को कण्ट्रोल कर सकती है.

    Virtual Private Server के नुकसान -

    • ये होस्टिंग Shared Hosting से थोडा मँहगी होती है.

    3. Dedicated Hosting


    इस प्रकार के होस्टिंग में एक पूरा सर्वर क[आपका होता है , जिसमे सिर्फ आपका ही हक़ होगा . उदहारण के लिए जैसे आप एक पूरा घर खरीद लेते हैं तो उस घर पर सिर्फ आपका ही हक़ होता है. ठीक उसी प्रकार Dedicated Hosting में आपका एक अपना Server होगा जिसमें सिर्फ आपके ब्लॉग/वेबसाइट के फाइल्स ,फोटोस आदि ही होंगे.

    Dedicated Hosting (डेडिकेटेड होस्टिंग) के फायदे -

    • इस प्रकार की होस्टिंग बहुत ज्यादे Traffic को हैंडल कर सकती है.
    • यह काफी ज्यादा Secure होती है.

    Dedicated Hosting (डेडिकेटेड होस्टिंग) के नुकसान -

    • यह होस्टिंग काफी ज्यादा मँहगी होती है 



    4. Cloud Web Hosting


    इसमें बहुत सारे Servers एक साथ सिर्फ एक वेबसाइट के लिए काम करते हैं और बेस्ट सर्विस देते है साथ ही ये वेबसाइट को Secure भी करते हैं.

    Group of Servers जब एक साथ मिलकर काम करते हैं तो इसी को Cloud बोलते हैं. 

    इससे high traffic वाले वेबसाइट को बहुत आसानी के साथ control किया जाता है और रेगुलरली अच्छी स्पीड होती है वेबसाइट की ज़्यादा ट्रैफिक होने पर भी.यही वजह है की Cloud होस्टिंग सबसे कॉस्टली  मानी जाती थी. 


    Cloud होस्टिंग के फायदे -

    • Server डाउन होने के बहुत ही कम चांस होते हैं.
    • High Traffic को असानी से कण्ट्रोल कर सकती है.

    Cloud होस्टिंग के नुकसान -

    • Cloud Website को रूट एक्सेस नहीं देता है.
    • ये भी थोड़ी मंहगी होती है. 

    Reseller Web Hosting क्या है ? Reseller Web Hosting


    यदि आप खुद लिए वेबसाइट ना बनाकर दूसरों के लिए वेबसाइट बनाने का काम करते हैं तो आप रिसेलर वेब होस्टिंग को खरीद सकते हैं.

    यह शेयर्ड वेबहोस्टिंग से थोड़ी सी अलग होती है जहां पर शेयर्ड वेबहोस्टिंग में अगर आप चार वेबसाइट चला रहे हैं तो आपको एक ही कंट्रोल पैनल से सभी वेबसाइट को हैंडल करना होगा लेकिन रिसेलर होस्टिंग में हर वेबसाइट के लिए अलग-अलग कंट्रोल पैनल होता है.

    ये होस्टिंग उन व्यवसाइयों के लिए बहुत फायदेमंद है जो वेब होस्टिंग का व्‍यवसाय करना चाहते हैं रिसेलर वेब होस्टिंग के द्वारा आप अपना खुद का होस्टिंग व्यवसाय कर सकते हैं और अपने वेब सर्वर पर अलग-अलग स्पेस बनाकर लोगों को होस्टिंग सेल कर सकते हैं.


    वेब - होस्टिंग और डोमेन नाम में क्या अंतर है ? Domain Vs Hosting in Hindi


    Domain name और Hosting में बहुत अंतर होता है . यदि आसान शब्द में कहें तो " Domain name आपके घर का पता होता है जबकि Hosting आपके घर या कमरे की तरह होता है ".


    इस प्रकार आप समझ सकते हैं की डोमेन नाम और होस्टिंग में कितना अंतर है लेकिन यदि आपको डोमेन नाम के बारे में पूरी जानकारी लेनी है तो यह आर्टिकल आपकी हेल्प करेगी -

    Web Hosting कहाँ से खरीदें ?


    आप अपने ब्लॉग के लिए किसी भी Hosting Provider से होस्टिंग खरीद सकते हैं . वैसे देखा जाय तो Market में कई Hosting Provider कंपनी है जिसमें सभी के अपने -अपने प्लान्स होते हैं जिसमें आपको अपने अनुसार प्लान सेलेक्ट कर के होस्टिंग खरीदना होता है.


    Best Hosting Provider


    • Hostinger
    • Hostgator
    • GoDaddy
    • Digital Ocean


    Related Post-


    निष्कर्ष :-  Web Hosting Hosting in Hindi 


    दोस्तों अब आप समझ चुके हैं की वेब होस्टिंग क्या है (What is Web Hosting in Hindi). इसके अलावा आपने ये भी जाना की वेब होस्टिंग कितने तरह के होते हैं (types of web hosting in hindi) और साथ ही इसकी भी जानकारी ली की ये कैसे काम करता है. 

    यदि आपको यह Hosting Meaning in Hindi जानकारी पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तों और Social Media जैसे - FaceBook , Twitter आदि में जरुर शेयर करें.

    धन्यवाद !!


    Post a Comment

    0 Comments